शुक्रवार, 2 नवंबर 2018

अभक्त

अभक्तों ने मिलकर
फिर से स्वांग रचाया है
चुनाव आते ही
फिर से प्रहसन बनाया है

मंचन में पुरुषोत्तम
की मर्यादा मर्दन का
दृश्य लगाया है

और तो और
अपने ओजस्वी संवादों में
मंदिर को रोटी
से बड़ा बताया है..

अरुण साथी
3/11/18

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें