रविवार, 29 जनवरी 2012

कितनी हसीन हो तुम

( ब्लॉगों पर बिचरते हुए एक ब्लॉग पर जाना हुआ और उनकी कविता को पढ़कर कुछ कीबोर्ड पर उकेर दिया...)
















कितनी हसीन हो तुम
बिल्कुल अपनी कविता की तरह
तुम्हारे मुस्कुराहट की बुनावट
और तुम्हारी जुल्फों की घटा
तुम्हारे आंखों में तैरता सागर
और तुम्हारे गालों पर खिला गुलाब

जैसे इसी से चुराया हो तुमने शब्द...
और पिरो दिया हो अपनी संवेदना में
और रच दी हो एक कविता।

या फिर
तुम्हारी संवेदना
तुम्हारा दर्द
तुम्हारा इंतजार
तुम्हारा प्यार
तुम्हारे आंसू
तुम्हारी खुशी

जैसे
इसी से बनती हो कविता

और कहलातें हो हम सभी
कवि....



27 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ………सच कभी कभी इस अन्दाज़ मे भी कविता बन जातीहै।

    जवाब देंहटाएं
  2. इस रचना में सौन्दर्य की सृष्टि है ...

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह ...बहुत ही सुन्‍दर भाव संयोजन ।

    जवाब देंहटाएं
  4. waah! waah! waah! iske alawa aur kuch shbd hi nahi mile.nishbd kiya aap ki rachna ne.....bdhaai aap ko

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही खूबसूरत प्रस्तुति ! चित्र भी बहुत सुन्दर है!
    बिल्कुल रचना के अनुरूप!

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह, सच्ची कविता तो ऐसे ही अचानक बन जाती है।

    जवाब देंहटाएं
  7. चित्र और कविता दोनों बेजोड़...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह बहुत खूब ...


    ये सच हैं कि ...इस ब्लॉग जगत ने बहुत कुछ दिया ...

    जवाब देंहटाएं
  9. वो तो आमने आप में एक जीवित कविता ही होते हैं जो किसी के एहसास जगा देते हैं ... अच्छी रचना है बहुत ही ...

    जवाब देंहटाएं
  10. क्या आपकी उत्कृष्ट-प्रस्तुति

    शुक्रवारीय चर्चामंच

    की कुंडली में लिपटी पड़ी है ??

    charchamanch.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  11. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज charchamanch.blogspot.com par है |

    जवाब देंहटाएं
  12. सुन्दर भावो की बहुत ही बेहतरीन अभिव्यक्ति
    सुन्दर भाव अभिव्यक्ति:-)

    जवाब देंहटाएं
  13. सुन्दर भाव ....
    कवियों की प्रेरणा का भेद खोल दिया आपने :-)
    साभार !

    जवाब देंहटाएं