मंगलवार, 1 मई 2012

मजदूर..


सर झुकाये
मौन
चुपचाप..
सुन रहा है गालियां..
पूरे दस मिनट देर से काम पर आया है
गुनहगार!
.
.
थक गया है
काम करते-करते
खैनी बनाने के बहाने सुस्ता रहा है,
या फिर मूतने का बनाता है बहाना।

मालिक फिर चिल्लाया..
साले

हरामी

इसी बात की मजदूरी देता हूं....

हमारे घर भी आते हैं ये मजदूर!



(मजदूर दिवस पर एक पुरानी रचना)

11 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक, सामयिक, सुन्दर, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मजदूर के साथ सदियों से होता अन्याय शायद ही ख़तम होगा कभी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचना पुरानी है पर दर्द सदाबहार है...!

    यही सच है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. सटीक व्यंग ! मजदूर दिवस पर मजदूर की सौगात .....

    उत्तर देंहटाएं
  5. पढ़े लिखे समाज का एक कड़वा सच ......बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी पोस्ट 3/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 868:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 04/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. मजदूर की व्यथा को सटीक शब्द दिए हैं आपने....बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज के समाज पर बहुत जबरदस्त प्रहार करती रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  10. मार्मिक ... कडुवे सच कों लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं