शुक्रवार, 9 नवंबर 2018

तेज का प्रताप और तलाक

धर्मपत्नी जी को
सुबह सुबह
गुड न्यूज़
सुनाया..

कहा,
तेज ने प्रताप दिखाया
तलाक की अर्जी लगाया
ऐश्वर्या जैसी वीबी को भी
पाँच माह झेल न पाया

मैं तो पिछले पच्चीस साल से
तुम्हारी जैसी को झेल रहा हूँ
आम आदमी हूँ,
इसीलिए तो
आग से खेल रहा हूँ

वीबी बड़ी प्यार से बोली
सुनो पति देव

पर नारी प्रिय तो
हर पति होता है!

गर्लफ्रेण्ड रहते
कुरूपा भी ऐश्वर्या
होती है,

और
वीबी बनते ही
ऐश्वर्या भी
कुरूपा हो जाती है!

मर्दों के दिमाग में ही
कोई केमिकल लोचा है,

इत्ती सी बात तुम
मर्दों को समझ क्यों
नहीं आती है...


शुक्रवार, 2 नवंबर 2018

अभक्त

अभक्तों ने मिलकर
फिर से स्वांग रचाया है
चुनाव आते ही
फिर से प्रहसन बनाया है

मंचन में पुरुषोत्तम
की मर्यादा मर्दन का
दृश्य लगाया है

और तो और
अपने ओजस्वी संवादों में
मंदिर को रोटी
से बड़ा बताया है..

अरुण साथी
3/11/18

सोमवार, 1 अक्तूबर 2018

हे राम

पहले हम विधर्मियों की
मौत पे जश्न मनाते थे

फिर हम विजातियों की
मौत पे जश्न मनाने लगे

आहिस्ते आहिस्ते हमारी
संवेदना मरती जाएगी

और तब हम स्वजातियों की
मौत जश्न मनाएंगे

फिर हम पड़ोसियों की
मौत जश्न मनाने लगेंगे

और फिर एक दिन
राजनीतिज्ञ हमे मर देंगे

और हम अपनी ही
मौत का जश्न मनाने लगेगें

इंतजार कीजिये, बस
गनहिं महत्मा की जै

शनिवार, 25 अगस्त 2018

दलित एक्ट, आरक्षण, वोटबैंक और संवैधानिक शोषण

दलित एक्ट, आरक्षण, वोटबैंक और संवैधानिक शोषण

(अरुण साथी)

"आरक्षण को लेकर संविधान सभा में जब चर्चा चल रही थी डॉ भीमराव अंबेडकर ने अपनी आशंका जताते हुए साफ चेतावनी दी थी कि यदि हमने गैरबराबरी को खत्म नहीं किया तो इससे पीड़ित लोग इस ढांचे को ध्वस्त कर देंगे जिसे इस संविधान सभा ने इतनी मेहनत से बनाई है।"

इस ढांचे से उनका आशय भारत और भारत का लोकतंत्र से था। आज यदि हम गंभीरता से आजादी के 70 साल बाद विचार करें तो बिल्कुल यही स्थिति विपरितार्थ रूप में सामने खड़ी नजर आती है। गैरबराबरी को लेकर शुरू किया गया आरक्षण और हरिजन एक्ट आज गैरबराबरी की एक बड़ी चौड़ी खाई उत्पन्न कर दी है। जिसमें बड़ी संख्या में सवर्ण समाज के लोग पीड़ित बन चुके हैं।

आज मामला उल्टा है। कुछ प्रसंग की चर्चा लाजिम है। पहला प्रसंग राजस्थान के पत्रकार दुर्ग सिंह राजपुरोहित का। बिहार के एक बड़े अधिकारी ने फर्जी रूप से रमेश पासवान के नाम एक प्राथमिकी कोर्ट में दर्ज कराई और अपने रसूख का इस्तेमाल कर तत्काल पत्रकार को राजस्थान से गिरफ्तार कर बिहार ले आए और जेल में ठूंस दिया। मीडिया ने जब छानबीन की तो रमेश पासवान नाम के युवक ने किसी प्रकार के केस करने की बात नहीं कही।

दूसरा मामला नोएडा के सेवानिवृत्त कर्नल बीरेंद्र सिंह चौहान का है। उनके साथ मारपीट की जाती है। दबंगई दिखाई जाती है और फिर दबंग व्यक्ति अपनी पत्नी से दलित एक्ट लगाकर प्राथमिकी दर्ज करा देता है। देश की सेवा में समर्पित रहने वाले कर्नल जेल चले जाते हैं।

मामला उठता है और सीसीटीवी कैमरे में सारी बात सामने आती है कि कर्नल के साथ मारपीट की गई परंतु उनके जेल जाने के बाद जांच होती है और जमानत होती है। दोनों मामले में निर्दोष जेल जाते हैं और जमानत पर छूटते हैं। भारतीय राजनीति और वोट बैंक की राजनीति का यह बानगी भर है। आम जीवन में कई लोग इस से पीड़ित हैं।

तो क्या अंबेडकर की आशंका के अनुसार यह गैरबराबरी भारतीय ढांचे को ध्वस्त कर देगा? भारत के लोकतंत्र को ध्वस्त कर देगा?

अब आइए गैरबराबरी पर एक नजर डालते हैं..

प्रसंग 1
एक निजी विद्यालय के डायरेक्टर बता रहे हैं कि सैनिक स्कूल के प्रवेश परीक्षा में 95% और 98% लाने वाले सामान्य वर्ग के बच्चों का एडमिशन नहीं हुआ जबकि 40% और 50% वालों का हो गया। पूछते हैं कि बताइए इस बच्चे की मानसिकता पर क्या असर पड़ेगा? बच्चे पूछ रहे हैं कि सर मेरा एडमिशन क्यों नहीं हुआ?

प्रसंग 2

शेखपुरा जिले के कुटौत गांव में रमेश सिंह की भूख से मौत हो गई! सरकारी मदद लगभग शून्य रहा। स्थानीय अधिकारी वृद्धा पेंशन देने के लिए रमेश सिंह की मां को तीन-चार घंटे तक बीडीओ  सवालों की बौछार से टॉर्चर करते हैं और केंद्रीय मंत्री के कहने पर भी अभी तक कुछ नहीं दिया गया। खैर, सामाजिक स्तर पर पहल हुई और उसके बच्चे को आर्थिक तथा शैक्षणिक मदद की व्यवस्था कर दी गई।

प्रसंग 3

नालंदा जिले के सारे थाना के खेतलपूरा गांव में पंकज सिंह की मौत किडनी फेल होने से इलाज नहीं होने की वजह से हो जाती है। एक माह पहले पंकज सिंह की पत्नी की भी मौत पथरी जैसे साधारण बीमारी का इलाज पैसे के अभाव में नहीं होने की वजह से हो जाती है। पंकज सिंह के बच्चे अनाथ हो गए। उसके पास एक कट्ठा जमीन नहीं है। एक डिसमिल का घर जर्जर। लोग सोशल मीडिया पे मदद की अपील कर रहे। मदद मिल भी रही। पर यह समाज के लिए स्थायी विकल्प नहीं है।

आइए हम गैर-बराबरी पर विचार करते हैं। कथित तौर पर सवर्णों अथवा वैश्यों के दमन, शोषण और अत्याचार दलितों के गैरबराबरी का मूल कारण था। सामंतवादियों को इसके लिए दोषी माना माना जाता है। परंतु आज हम सभी इस गैरबराबरी को लेकर सामंतवाद को समाज के लिए कलंक मानते हैं।

तब अब सोचिए आज  सवर्णों में गैरबराबरी की स्थिति उत्पन्न कर दी गई है। सवर्ण का दमन और शोषण हो रहा है। इसी शोषण का नतीजा है कि गरीब सवर्ण भूख से मर रहे हैं। बीमारी के इलाज के अभाव में मर रहे हैं।

अब इस पर देखिए कि यह दमन और शोषण कर कौन रहा है! तो यह दमन और शोषण संवैधानिक स्तर पर किए गए प्रावधानों के अनुसार वोट बैंक के लोभी नेता कर रहें। मतलब साफ है कुछ मुठ्ठी भर सवर्णों अथवा सामंतवादियों के दमन और शोषण का बदला लेने के लिए एक लोकतंत्र में संवैधानिक व्यवस्था दी जाती है और 70 साल तक उसी दमन और शोषण के बदला लेने का परिणाम विपरीतार्थक रूप में सामने आता है जिसमे समूची जाति से बदला लिया जाता है। जबकि मुट्ठी भर लोग जो शोषण और दमन करते हैं वे जाति देख कर कभी नहीं करते। बल्कि अपनी जातियों का भी दमन और शोषण करते हैं।

अब थोड़ी चर्चा वामपंथ के वर्ग संघर्ष की। वामपंथ का वर्ग संघर्ष का मूल सिद्धांत समाज को गरीब और अमीर में बांट कर देखने की है। हालांकि अपने मूल सिद्धांत पर वामपंथी भी नहीं टिके और वह जातियों और धर्मों के आधार पर समाज को बांट कर देखने लगे, जिस की वजह से वे हाशिये पर चले गए। परंतु वर्ग संघर्ष का यही मूल सिद्धांत समाज को जोड़ने का सिद्धांत है। परंतु राजनीतिज्ञों के द्वारा समाज को जोड़कर राष्ट्र को सशक्त करने की बात कभी नहीं की जा सकती। क्योंकि समाज को विखंडित करने के बाद ही सत्ता को हासिल किया जा सकता है। और सभी दलों के राजनीतिज्ञों का एकमात्र उद्देश्य सत्ता को हासिल करना होता है। देश सेवा, समाज निर्माण उनका उद्देश्य कतई नहीं होता!

वोट बैंक की राजनीति देखिए कि जब सुप्रीम कोर्ट अपने अनुभव से कहता है कि दलित एक्ट का 95% दुरुपयोग हो रहा है और निर्दोष क्यों लोग सताए जा रहे हैं और इस में जांच कर गिरफ्तारी हो तो वोट के लिए सत्ताधीश विधेयक लाकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को बदल देते हैं! अब जब सुप्रीम कोर्ट पूछ रहा है कि आखिर यह आरक्षण कब तक रहेगा और एक IAS के बेटे और पोते को आरक्षण क्यों दिया जाना चाहिए तब इस पर भी वोट बैंक की राजनीति शुरु हो गई है!

तब इस गैर बराबरी का परिणाम अंबेडकर की जताई आशंका के अनुरूप एक दिन क्यों उत्पन्न नहीं होगा? एक दिन ऐसा आएगा जब इस गैर बराबरी की वजह से भारत का लोकतंत्र खतरे में पड़ेगा...?

मंगलवार, 14 अगस्त 2018

हाँ मैं लोकतंत्र हूँ...

हाँ मैं लोकतंत्र हूँ..
(अरुण साथी)

धर्म के नाम पे मार कर
आदमी को, उसी की
लाश पे जश्न मनाने का
सर्व सुलभ यंत्र हूँ...
हाँ मैं लोकतंत्र हूँ..

कर्ज से मरता किसान
मजदूरों का चूल्हा वीरान
अम्बानियों, आडानियों के
स्विस बैंक भरने का खड़यंत्र हूँ..
हाँ मैं लोकतंत्र हूँ..

भूख से मरते आदमी
को आश्वासन देते हुए
मुँह से निवाला छीन
वोट बैंक में बांटने का मंत्र हूँ
हाँ मैं लोकतंत्र हूँ.....

धर्म-धर्म में बाँट कर
जाति-जाति में छाँट कर
सत्ता सिंघासन पाने का
बस एक षडयंत्र हूँ..
हाँ मैं लोकतंत्र हूँ..
हाँ मैं लोकतंत्र हूँ..
(15/08/18)

स्वतंत्रता दिवस पे इससे ज्यादा कुछ नहीं दे सकता..धन्यवाद..

बुधवार, 8 अगस्त 2018

अंधेरा

चलो फिर से आंधियों को हवा देते है,
चलो हर एक चरागों को बुझा देते है!!

ये रौशनी ही फसाद करती है "साथी",
चलो इस गांव में अंधेरे को बसा देते है!!

है गर कोई गुस्ताख़ चरागों को बचाने वाला,
चलो सबसे पहले हम उसको ही मिटा देते है!!

जरा भी खलल न हो सके अंधेरों की दुनिया में,
चलो अब इस जमाने से आदमी को मिटा देते है!!
अरुण साथी (09/08/2018)

मंगलवार, 31 जुलाई 2018

नर-पिशाच

आदमी जैसा दिखने वाला

हर आदमी

आदमी नहीं होता


आदमी की शक्ल में

आजकल नर-पिशाच

भी रहते है..


नर-पिशाच

प्यासा होता है

लहू का


नर-पिशाच

भूखा होता है

हवस का


नर-पिशाच

होता है

आदमखोर


और 

नर-पिशाच

निठारी से

लेकर मुजफ्फरपुर के

बालिका गृह तक

कहीं भी

दिख जाएगा

बलात्कार के बाद

हठात हँसते हुए

हमपे

हमारी राजनीति पे

हमारी सत्ता पे

हमारे समाज पे

हमारे कानून पे

हमारी न्याय व्यवस्था पे..

हा हा हा हा..







सोमवार, 30 जुलाई 2018

कातिल

वक्त वक्त की बात है, वक्त सबका हिसाब रखता है!
जलेगा वही जो सिरहाने अपनी आफताब रखता है!!

इस दुनिया का यही रिवाज है तो मान लो "साथी"!
स्याह फितरत लोग दूसरों के धब्बों का हिसाब रखता है!!

अब तो मंदिर मस्जिद फ़कत कातिलों के अड्डे है!
खूनी हाथों में वह मज़हब की किताब रखता है!!

गुरुवार, 19 जुलाई 2018

हलाला बनाम बलात्कार

(अरुण साथी)

पिता समान ससुर से
सेक्स की बात को
मजहब के आड़ में
हलाला बता
सही ठहराते हो

हो शैतान
और तुम
मुल्ले-मौलवी
कहलाते हो

और
हलाला रूपी बलात्कार
का विरोध करने
वाली एक महिला
से भी डर जाते हो

हद तो यह कि निदा को
शरीया का हवाला देकर
सड़े हुए अपने
धर्म से निकालने का
फतवा सुनाते हो

और तो और
इन शैतानों के साथ
देने वाले
खामोश रहकर जो
जो तुम मुस्कुराते हो
तुम भी जरा नहीं
लजाते हो...

बुधवार, 23 मई 2018

92 शिक्षकों की निकली है बहाली...

http://www.sheikhpuranews.com/good-morning-good-news-%e0%a4%b6%e0%a5%87%e0%a4%96%e0%a4%aa%e0%a5%81%e0%a4%b0%e0%a4%be-%e0%a4%b8%e0%a5%87-92-%e0%a4%b6%e0%a4%bf%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%b7%e0%a4%95%e0%a5%8b%e0%a4%82-%e0%a4%95/

सोमवार, 16 अप्रैल 2018

हिन्दू आतंकवाद- मुस्लिम आतंकवाद

1
मक्का मस्जिद ब्लास्ट में
तथाकथित
हिन्दू आतंकवाद के
अभियुक्तों के रिहा होने पे
जो लोग न्यायाधीश को
कठघरे में खड़ा कर रहे
वही लोग तथाकथित
मुस्लिम आतंकवाद
के अभियुक्तों
के रिहा होने को
न्याय की जीत बताते है..

2
तथाकथित
हिन्दू आतंकवाद के
अभियुक्तों के रिहा होने पे
जो लोग न्याय की
जीत बता रहे
वही लोग तथाकथित
मुस्लिम आतंकवाद के
अभियुक्तों के रिहा होने पे
न्यायधीश को कठघरे में
खड़ा करते पाये जाते है...

रविवार, 15 अप्रैल 2018

देश क्यों पिछड़ रहा..?

कोई दलित,
कोई सवर्ण
कोई जाट
कोई गुज्जर
कोई पटेल
कोई महार
कोई हिन्दू,
कोई मुसलमान
कोई पंजाबी
कोई ईसाई
के लिए लड़ रहा...
सबको अपनी पड़ी है
देश की बात कौन कर रहा
फिर भी हम पूछते है
भारत क्यों पिछड़ रहा...
#साथ के #बकलोल_वचन

शुक्रवार, 13 अप्रैल 2018

सधर्मी बलात्कारी

सधर्मी बलात्कारी
कठुआ में
काठ मारने जैसा
कुछ दरिंदो ने
एक मासूम सी
कश्मीर की परी
से बलात्कार कर
हत्या कर दी..
दरिंदों को
उस मासूम की
कारुणिक क्रंदन भी
भी सुनाई दिया होगा...
या की उसकी चीत्कार
दरिंदों के दिल तक
पहुंची तो होगी...
पर दरिंदे तो
दरिंदे होते है
उसका
अपना धर्म
अपनी जाति
अपना समाज होता है..
अरे!
फिर
उस मासूम सी परी
की लाश को
विधर्मी बता कर
कौन नोंच नोंच
कर खा रहा है..
अरे!
फिर
उस मासूम सी परी
की लाश को नोचते
हुए ये
विधर्मी विधर्मी
कह कौन
अट्टहास कर रहा है...
अरे!
दरिंदों को
ये कौन है
जो सधर्मी सधर्मी
कह रहा है....
कौन है...
कौन है...

रविवार, 1 अप्रैल 2018

उत्पीड़न हेतु भारत बंद

#दलित_उत्पीड़न
कानून के दुरुपयोग
से हो रहे उत्पीड़न
को रोकने के लिए
जांच कर कार्यवाई
के उच्चतम न्यायालय
के आदेश पे #भारत_बन्द है,

कम वोट बैंक वालों का
मौलिक अधिकार
खत्म करने का
यह नेता मंत्र है,

ओह!
यह कैसा लोकतंत्र है..
#साथी के #बकलोल_वचन

अंत राष्ट्रीय मूर्खाधिराज नोबेल पुरस्कार केजरीवाल को ...

मूर्ख दिवस
पे अंत राष्ट्रीय मूर्खाधिराज
नोबेल पुरस्कार केजरीवाल को
देते हुए जजों ने फरमाया


“वैसे तो इस पुरस्कार
के रेस में मोदी जी आगे
चल रहे थे
पकौड़ा रोजगार
जुमला समाचार
नोटबन्दी, जीएसटी
छपन्न इंच और
राम नाम
जैसे जुमलों से उन्होंने
देश और दुनिया को
मूर्ख बनाया
और यह सब करने में
उन्होंने तीन-चार दशक
गंवाया

आप तो श्रीमान
जादूगर निकले
पहले अन्ना को फंसाया
और अनशन को
हथियार बनाया
सबको भरपेट गरियाया
दिल्ली की कुर्सी हथियाया
आम आदमी बन
आम आदमी के
अरमानो पे
झाड़ू चलाया
और तो और
इतना सबकुछ चंद
महीनों में ही कर दिखाया..

शनिवार, 31 मार्च 2018

बंदरी ने मूर्ख बनाया..

सुबह सुबह बंदरी ने
अकोकिल कर्कश स्वर में
आई लव यू सुनाया
स्नेहसिक्त मन हर्षाया
चेहरे का हर्ष भाव पढ़
बंदरी के मन का
वनफूल खिल आया
फिर उसने
अपने गैर लिपस्टिक रूपी
श्याम स्लेटी चेहरे पे लगे
होठ रूपी कैसेट से
हैप्पी अप्रेल फूल बजाया
तब जाकर माजरा समझ आया
एक बार फिर बंदरी ने
मुझे मूर्ख बनाया
मैंने कहा, बंदरी
प्रेमपाश में पड़
विवाह रूपी विषवेल में
तो मूर्ख भी फंसते है
विद्वतजन भी भला कहीं
ऐसी मूर्खता करते है
इसलिए है प्रिये आओ
दोनों एक दूसरे के फिर
गले लगते है
और
ईश्वर से सात जन्मों तक
निरा मूर्ख पैदा करने की
करबद्ध प्रार्थना करते है….
करबद्ध प्रार्थना करते है….
करबद्ध प्रार्थना करते है….

#साथी के #बकलोल_वचन

सोमवार, 19 मार्च 2018

बड़गड़ सवाल

किस्सा, कहानी में

भेड़िया आया,

भेड़िया आया

कहे वला बुतरू ही

केजरीवाल हो..

सबके चोर चोर

करके एतना कैलको

बबाल हो...

सबसे माफी मांग

कैलको निढाल हो...

सचमुच् भेड़िया अईतो

त अब के पतियातो

इहे बड़गड़ सवाल हो..?

#साथी के #बकलोल_वचन
(भाषा - मगही,)

रविवार, 18 मार्च 2018

अजी हमपे क्यों बिगड़ते हो..

"साहेब, युवाओं के
रोटी, रोजगार
के लिए कुछ क्यों
नहीं करते है.."

"मंहगाई से लोग
परेशान है
और किसान आज भी
आत्महत्या कर मरते है.."

#साहेब
"जिन्हें जो पसंद है
हम वही करते है
उनसे पूछिये जो
मंदिर-मस्जिद, गाय
के लेकर झगड़ते है,
अजी हमपे क्यों बिगड़ते है...
#साथी के #बकलोल_वचन

बुधवार, 27 दिसंबर 2017

बुलेटवा अब दहेजुआ गाड़ी हो.. (सामाजिक कुरीति दहेज पे अपनी मगही बोली में चोट किया है.. पढ़िए तो..)


बुलेटबा अब दहेजुआ गाड़ी हो गेलो।
खरीदे खातिर निम्मल बेटी बाप के गियारी हो गेलो।।
1
पहले ई सवारी हलो रंगदार औ ठेकेदार के,
पहचान लगि देखाबा करे वाला जमिंदार के,
या तर माल कम्बे वाला पुलिस औ थानेदार के,
अब ई हवो-पहलवान के सवारी हो गेलो।
बुलेटबा अब दहेजुआ गाड़ी हो गेलो।
खरीदे खातिर निम्मल बेटी बाप के गियारी हो गेलो।।
2
जन्ने जाहो ओनने दहेज मांगतो कस के,
सब फाइनल होला पर बुलेट ले लड़का रुसल हो,
लड़का के माय बोलथुन रभस के!!
बुलेट नै होलो झिंगुनी के तरकारी हो गेलो।।
बुलेटबा अब दहेजुआ गाड़ी हो गेलो।
खरीदे खातिर निम्मल बेटी बाप के गियारी हो गेलो।।
3
दहेज के रुपैया पर बेटा के बाप नितराबो हइ,
पाई पाई गिना के बेटी बाप के चोकर छोडाबो हइ,
उहे रुपैया फेर गुड्डी नियर उडाबो हइ,
दोसर के पैसा पर अपन्न झुठठो शान देखबो हइ,
दहेज तो अब जैसे नियम सरकारी हो गेलो।।
बुलेटबा अब दहेजुआ गाड़ी हो गेलो।
खरीदे खातिर निम्मल बेटी बाप के गियारी हो गेलो।।
#अरुण_साथी/28/12/17








बुधवार, 20 दिसंबर 2017

फेसबुक औ व्हाट्सएप समाचार

फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

अधजल नगरी, छलकत नेता
करे में लगल अपन्न प्रचार हो..
फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

ठग, उठाईगीर
लफुआ, छपट्टावीर
सब ऐजा संत हो,
एडमिन बनके,
बकलोलो महंत हो...

कि कहियो, आझकल इहे से
बुतरू के बदलल व्यवहार हो.
फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

आझे ई खैलियो
आझे ई पकलियो
ठंढा में आठ दिन पर
आझे नहैलियो
औ तो औ साबुन भी लगैलियो..

श्राद्ध से लेके शादी के
सेल्फी भरमार हो..
फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

पहले मुर्गी कि पहले अंडा
राजनीति के एतने हो फंडा
राम-रहीम लड़ाबे के जेकर हो धंधा
उहे आझ हो सबसे बड़का बंदा..

पढलको लिखलका भी धर्म के खीँचले तलवार हो...
फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

बकरी देलको बच्चा
औ मुर्गी के लगलो बोखार हो
चार दिन से सासू माय के
बहिन के ननद के बेटा बीमार हो

सब अपन्न अपन्न आदत से लाचार हो..
फेसबुक औ व्हाट्सएप
के एतने समाचार हो..

अरुण साथी/मगही कविता/21/12/17

रविवार, 26 नवंबर 2017

केजरू

केजरू भैया
भज-पा के तुलना
आईएसआई
कर देलखुन!

मने की
गुणवत्तापूर्ण प्रोडक्ट
के सर्टिफिकेट
लगले धर देलखुन..!!

#साथी के #बकलोल_वचन

सोमवार, 20 नवंबर 2017

साथी

साथी

ठोकरें खाकर अपनों की
जब से संभल गए साथी!

दुनियादार क्या हुआ,
कहते हैं बदल गए "साथी"!!

जिनसे था ग़ुरूर वही
लोग मतलबी निकले,

एक कदम जो तेज चला,
चाल चल गए साथी!!

इक मोहब्बत के नाम जो
कर दी जिंदगी अपनी!

जमाने ने हँसकर कहा,
बेगैरत निकल गए साथी!!

छाँव बनकर ताउम्र
जिनके साथ रहा,

दौरे गुरबत में मुंह फेर
वे भी निकल गए साथी!!

#अरुण_साथी (21/11/17)

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

रावण

प्रकांड विद्वान
सिद्ध तपस्वी
शिव भक्त
ब्रह्मा वंशज
स्वप्नद्रष्टा
अजर-अमर
होकर भी वह
नायक नहीं
कहलाता है,

एक अहँकार से
हर कोई रावण
हो बन जाता है..

आईये इस दशहरा
अपने अहंकार का
पुतला बनाते है,
अपने ही हाथों
अपने अंदर के
रावण को जलाते है..

अरुण साथी
(विजयादशमी की शुभकामनाएं)

बुधवार, 23 अगस्त 2017

कौरव कौन, पांडव कौन...

कौरव कौन, कौन पांडव (कविता)
*अटल बिहारी वाजपेयी*
कौरव कौन
कौन पांडव,
टेढ़ा सवाल है।
दोनों ओर शकुनि
का फैला
कूटजाल है।
धर्मराज ने छोड़ी नहीं
जुए की लत है
हर पंचायत में
पांचाली
अपमानित है।
बिना कृष्ण के
आज
महाभारत होना है,
कोई राजा बने,
रंक को तो रोना है।
प्रस्तुति:-अरुण साथी

रविवार, 28 मई 2017

कमी बाकी रख..

एक मुसलसल सी कमी बाकी रख!
पावों तले थोड़ी सी जमीं बाकी रख!!

ठोकरों से संभलना सीख ले "साथी"!
आंखों में थोड़ी सी नमी बाकी रख!!

महबूब को बेबफा न कहा करो यूँ ही,
मोहब्बत पे थोड़ा सा यकीं बाकी रख!!

@अरुण साथी 21/05/17