बुधवार, 25 मई 2011

आतंकियों के नाम आमंत्रण।




आईएसआई ने रची साजिश
हेडली के इस बयान को 
अखबारों ने प्रमुखता से खबर लगाया
साथ ही
कसाब की सुरक्षा पर 10 करोड़
का किस्सा भी बॉक्स में चिपकाया!

इस गड़बड़ झाले ने मेरा सिर चकराया?

तब क्या
  हमऐसा ही करते रहेगेें!
बीटी स्टेशन और ताज में
इंडियन मरते रहेगें!

तब
एक नेता जी ने मुझे समझाया..
भौया जी यह पोल-टिक्स है..

इसलिए हम
ऐसा ही करेगें
कसाब पर खर्च कर
आतंकियों को आमंत्रित करेगें.....

4 टिप्‍पणियां:

  1. करारा व्यंग है अरुण भाई .... आज के राजनीतिक माहॉल की नब्ज़ खूब पकड़ी है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह पोल-टिक्स ही तो बेड़ा गर्क कर रही है |

    उत्तर देंहटाएं