शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

हे भारती देखो तुम











हे भारती देखो तुम,
कैसे अपने ही आज लूट रहे,
कैसे आतंकी धर्मभेष में छूट रहे।

हे भारती देखो तुम,
कैसे, गांधी की टोपी आज लुटेरों के सर पर है,
कैसे आज फांकाकशी भगत सिंह के घर पर है।

हे भारती देखो तुम,
आज कैसे जनता की नहीं है चलती,
देखो, कैसे रक्षक ही अस्मत को मलती।

हे भारती देखो तुम,
कैसे अन्नदाता पेट पकड़ कर सो जाते,
और कहीं पिज्जा खा खा कर कारोबारी नहीं अघाते।

हे भारती देखो तुम
अब गंधारी का ब्रत त्याग करो,
एक बार फिर तुम लक्ष्मीबाई का रूप धरो।

हे भारती देखो तुम,
जब देश की खातीर, एक बुढ़ा करता है उपवास,
तब सर्वोच्च सदन में बैठे सब करते है उपहास।

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति सुंदर रचना......
    --जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  2. हे भारती देखो तुम,
    जब देश की खातीर, एक बुढ़ा करता है उपवास,
    तब सर्वोच्च सदन में बैठे सब करते है उपहास
    bahut achchi lagi apki ye kavita.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्‍छी शब्‍द रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. विनाश काले विपरीत बुद्धि ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. har sabd satya ..aur manthit हे भारती देखो तुम
    अब गंधारी का ब्रत त्याग करो,
    एक बार फिर तुम लक्ष्मीबाई का रूप धरो। bahut sundar ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. देश प्रेम की झलक देती पोस्ट ......पहली बार ब्लॉग पर आना हुआ ,अच्छा ब्लॉग है.... फोलो कर रही हूँ,उम्मीद है आना जाना लगा रहेगा..........

    उत्तर देंहटाएं
  7. हे भारती देखो तुम,
    कैसे अन्नदाता पेट पकड़ कर सो जाते,
    और कहीं पिज्जा खा खा कर कारोबारी नहीं अघाते।

    इस विरोधाभास में ही पता नहीं कब तक जीते रहेंगे हम

    उत्तर देंहटाएं
  8. behad khoobsurat panktiya......
    kabhi mauka mile to hamare yaha bhi padhariye...
    link h..http://likhtepadhte.blogspot.in.

    उत्तर देंहटाएं