शनिवार, 11 अप्रैल 2020

लाक्षागृह

निज स्वार्थ 
सिद्धि में 
जब भाई को मारने 
भाई ही लाक्षागृह
सजायेगा

उस समय तो 
पांडव बच गए 
आज का भाई तो
मारा ही जाएगा

7 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्ते,

    आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में रविवार 12 अप्रैल 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं