मंगलवार, 25 फ़रवरी 2014

इश्कतारी है.....


जबसे साथी पे इश्कतारी है।
हर पल उनकी खुमारी है।।

आँखों में फुल सा चेहरा।
दिल में खिली फुलबाड़ी है।।

होठों पे है हंसी हरदम।
ये कैसी लगी बीमारी है।।

जुस्तजू सी है हर सू उनका।
फिर भी मिलन में दुश्वारी है।।

हर शय में अक्स उनका है।
इश्क की ये कैसी बेकरारी है।।




(मेरे द्वारा खिची गयी एक बंजारन की तस्वीर) 

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... अगर इश्क्तारी हमेशा के लिए हो जाये तो जिंदगी बन जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह जी आप तो छा गए. एक फ़ोटो और दूसरे फ़ोटो को ज़ुबां

    उत्तर देंहटाएं