शनिवार, 15 दिसंबर 2012

तोहमत


1
तोहमत लगाने का जहां में चलन है साथी,
किसी से मत कहना कि तुम पाक दामन हो।।
2
जमाने की निगाहों से कभी खुद को न देखो साथी,
खुदा ने सबको इक रूह का चश्मा दिया है।
3
वो फितरतन फरेबी हैं, तुम परेशां क्यूं हो साथी,
बुरे को इक दिन बुरा मान जाएगें लोग।

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खुब. तीसरा वाला ज्यादा पसन्द आया.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही तो है ...सच को तो सामने आना ही है

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपके ब्लाँग पर आज पहली बार आया आपकी रचना कमाल की हैँ इसलिए अब मैँ भी इस ब्लाँग का :साथी: बन गया ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो फितरतन फरेबी हैं, तुम परेशां क्यूं हो साथी,
    बुरे को इक दिन बुरा मान जाएगें लोग।


    सच्ची अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. तोहमत लगाने का जहां में चलन है साथी,
    किसी से मत कहना कि तुम पाक दामन हो।।

    बहुत उम्दा शेर हैं साथी जी. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं