गुरुवार, 29 नवंबर 2012

दानदाता का नाम..

संगमरमर के सीने पर
छेनी से
उकेरा  जा रहा था
दानदाता  का नाम
कथित ईश्वर के घर
लगेगा आदमी का
नाम.....

उस दिन
नाली की ढक्कन पर भी
उकेरा जा रहा था
दानदाता का नाम..


8 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (1-12-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. नाम अमर करने का यही सबसे अच्‍छा तरीक़ा है

    उत्तर देंहटाएं
  3. नाम की चाहत में कम से कम दान तो करते हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  4. कटाक्ष ... गहरा चिंतन समाज की प्रवृतियों का ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर चित्रण...उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  6. संगमरमर के सीने पर
    छेनी से
    उकेरा जा रहा था
    दानदाता का नाम
    कथित ईश्वर के घर
    लगेगा आदमी का
    नाम.....

    गहन रचना ...
    शुभकामनायें ॥

    उत्तर देंहटाएं
  7. बस कहीं भी नाम उकेरा जाना चाहिए..

    उत्तर देंहटाएं