शुक्रवार, 3 फ़रवरी 2012

आखरी आदमी हत्या ?


उस दिन
जब मार दिये जाएगें
वह आखरी आदमी भी
जो कर रहा है संघर्ष
गांव/मोहल्लों
गली/कूंचों
में रहकर,
अपने आदमी होने का....


आज जहां
थोक भाव में बिकते ईमान
और खरीदे जाते आबरू के बाजार में
कोई इसको बचा कर
चुनौती देता है तुम्हें....



आज जहां
सौ रूपये की खातिर
भाई भाई का खून बहाते,
कोई आदमी होने के लिए
लाखों खाक में मिलाते!
अपनों को अपनाते...

तुम बैठ कर सोंचना?
आखिर
आदमी की तरह
दिखने पर भी
तुम आदमी क्यों नहीं हो......

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर गहन भाव की लाजबाब प्रस्तुती .
    MY NEW POST ...40,वीं वैवाहिक वर्षगाँठ-पर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गहरा सार गर्भित सवाल उठाया है आपने...इस बेजोड़ रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन अभिवयक्ति..........और सार्थक प्रश्न?????

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदमी ही इस धरती पर सबसे खतरनाक जानवर हैं ...इंसान की शक्ल में ...
    ये दिल से कुछ तो बाहर से कुछ और दिखता हैं ...''तुम आदमी क्यों नहीं हो''......ऐसा जटिल प्रश्न जिसका उत्तर किसी के पास नहीं हैं ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार गर्भित रचना के लिए बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  6. आखिर
    आदमी की तरह
    दिखने पर भी
    तुम आदमी क्यों नहीं हो.

    वाह, कितनी ठोस बात कही है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस कविता में प्रत्यक्ष अनुभव की बात की गई है, इसलिए सारे शब्द अर्थवान हो उठे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सब आप सब आर्शीवाद है, कृपा बनाऐं रखें।
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम बैठ कर सोंचना?
    आखिर
    आदमी की तरह
    दिखने पर भी
    तुम आदमी क्यों नहीं हो......
    bahut hi umda rachna hasi,dimaag ke darwaaje par dastak dene ka pryaas karti rachna...bdhaai is ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिखने के बाद भी तुम आदमी नहीं हो ... आज सभी जंगल के वासी बन गए हैं ... अग्नि, द्वेष में जलते हुवे ... शिकारी की तरह ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. तुम बैठ कर सोंचना?
    आखिर
    आदमी की तरह
    दिखने पर भी
    तुम आदमी क्यों नहीं हो
    बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. तुम बैठ कर सोंचना?
    आखिर
    आदमी की तरह
    दिखने पर भी
    तुम आदमी क्यों नहीं हो......
    Bahut khoob!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर संवेदनशील रचना, अरुण जी!

    उत्तर देंहटाएं