शनिवार, 3 अगस्त 2013

फ्रेंडशिप डे

फेसबुक फ्रेंड का इतना सा बास्ता है।
कॉमेंट गिव एण्ड टेक का यह सिंपल सा रास्ता है।।

फेसबुक की ही तरह अब दोस्ती भी मॉडर्न हो गई।
दुख-दर्द में साथ देने का अब चलन ही खो गई।।

फेसबुक फ्रेंड भी अजब गजब होते है।
लड़की के चेहरे में छुपकर लड़के मौज लेते है।।

फेसबुक को कुछ ने मौज मस्ती का साधन बनाया है।
इसलिए अपने शादी शुदा होने की बात को छुपाया है।।

फेसबुक पर कुछ तो कृष्ण-सुदामा की तरह होते है।
कुछ अपनी विलुप्त जमींदारी को यहां भी ढोते है।।

फेसबुक का यह भी आज हो रहा है कमाल।
सात समुंद्र पार से अपने गांव का ले रहा है हालचाल।।


5 टिप्‍पणियां:

  1. फेसबुक पर दोस्त और दोस्ती
    बस संख्या और कमेंट्स भर ही है
    सच में दोस्ती के मायने बदले हैं आज
    सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. हकीकत बताती रचना...
    शानदार....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या बात है अरुण जी
    सच ही सच ...मज़ा आ गया पढ़ कर

    उत्तर देंहटाएं
  4. असली दोस्ती क्या है ...शायद ही कोई जान पाएगा इस झूठी दुनिया में

    उत्तर देंहटाएं