गुरुवार, 24 जनवरी 2013

कत्ल करने का बहाना चाहिए (साथी के बोल बच्चन)


अब जहां में कत्ल करने का बस बहाना चाहिए।
दौर ऐसा है साथी तो, मोहब्बत को भी आजमाना चाहिए।।

यूं तो एक नजर में जान जाओगे कि जानवर शैतान है।
पर आदमी को जानने के लिए एक जमाना चाहिए।।

ऐसा नहीं की बसते हैं मुर्दे ही मेरे गांव में।
है उनमें भी आग, यह उनको बताना चाहिए।।

हैं फरेबी वो, दे गए धोखा हमें।
पर जानने को जिंदगी, धोखा भी खाना चाहिए।।

10 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    2. कनाडा की कड़कड़ाती -23 डिग्री की ठंढ में आप वाह वाह कर दिये यह बड़ी बात है.....
      आपके फेसबुक वॉल पर ठंढ का हाल देख कर यहां भी डर जाता है...
      आर्शीवाद..

      हटाएं
  2. "यूं तो एक नजर में जान जाओगे कि जानवर शैतान है।
    पर आदमी को जानने के लिए एक जमाना चाहिए।।"
    बहुत सुंदर ....बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत खूब ......
    हर किसी को समझने के लिए एक अदद दिल और दिमाग चाहिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब जहां में कत्ल करने का बस बहाना चाहिए।
    दौर ऐसा है साथी तो, मोहब्बत को भी आजमाना चाहिए।।

    बहुत खूब कहा.

    आप सभी को गणतंत्र दिवस पर बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं