सोमवार, 4 जून 2012

सवाल उठाती कविता ....






















सवाल उठाती कविता
बचपन की तरह होती है
मासूम और निश्छल।

वह बोलती-बतियाती है,
सबसे,
बेझिझक,
उसे पता नहीं होता
विभेद
राजा और रंक का..

पर उसके सवाल
कभी कभी
निरूत्तर कर देतें हैं
तथाकथित बौद्धिकों को भी...


34 टिप्‍पणियां:

  1. सहजता से गहरी बात कहती कविता !

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्दों की शक्ति है ये....

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर उसके सवाल
    कभी कभी
    निरूत्तर कर देतें हैं
    तथाकथित बौद्धिकों को भी...
    बहुत ही बढ़िया बात कही है आपने..
    सुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कल 06/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' क्‍या क्‍या छूट गया ''

    उत्तर देंहटाएं
  5. पर उसके सवाल
    कभी कभी
    निरूत्तर कर देतें हैं
    तथाकथित बौद्धिकों को भी....haan.....sahi bole.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिलकुल....
    प्रबक क्षमता है कविताओं में...

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर उसके सवाल
    कभी कभी
    निरूत्तर कर देतें हैं
    तथाकथित बौद्धिकों को भी...

    sarthak ...sundar abhivyakti ....
    badhai sweekaren ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सही कहा अरुणजी .......कभी कभी एक कविता बयार सी गुज़र जाती है , और झना झा जाती कई तार....कभी मस्तिष्क के ..कभी आत्मा के

    उत्तर देंहटाएं
  9. उसे पता नहीं होता
    विभेद
    राजा और रंक का..
    ...
    use ham sikha dete hain thoda bada kavi hone do...ye nishchalta hame khud achhi nahi lagegi !

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रशंसनीय रचना - बधाई
    नई पोस्ट सदा की अर्पिता पर आपका स्वगत है

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्द सच ही कभी नि:शब्द कर देते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  12. ऐसी कवितायें ही कुठार करती हैं समाज की मान्यताओं पे ..
    कालजयी हो जाती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसी कविताओं पर सत्ता वाल सवाल उठाते हैं ... क्योंकि जवाब तो उन्हें देना नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. शब्द और सोच ...हमेशा निरुत्तर क्यों कर देते हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. छोटी सी कविता गहरा असर, अभिव्यक्ति की कौशलता.

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच में कविता .... एक झरने की तरह होना चाहिए ... जिस सब कोई समझ सके .... बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरुण भाई ...जरा देखे
    http://pandeygambhir.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  18. सवाल तो बहुत हैं पर जबाब बहुत कम.

    बहुत सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  19. और उनके सवालों का जवाब किसी के पास नहीं होता .....

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत उम्दा कविता और ब्लाग डिजाइन |आभार

    उत्तर देंहटाएं