शुक्रवार, 4 नवंबर 2011

अन्तराल















अन्तराल..
दर्द और हंसी के बीच..

जो जुड़ा था
उसके टूटने से पहले,
होता है एक अन्तराल।

टूटना नये का आगमन है..
पूष की रात
और फिर
वसंत,
बीच का अन्तराल
पतझड!

ढूंठ था जहां कभी
वहां कलरव करते है विहग
वसंत
पतझड़
और अंतराल
जीवन का सबसे बड़ा सवाल....

22 टिप्‍पणियां:

  1. बनने और बिगड़ने का क्रम तो चलता रहता है। पर यह अन्तराल लंबा न हो।

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या अन्तराल को बचाना चाहिये, कि बहुत ही अन्तराल ना हो जाये? क्या अन्तराल में ही जीवन होता है? क्या अन्तराल ही अमरत्व है?

    उत्तर देंहटाएं
  4. ठूंठ था जहां कभी
    वहां कलरव करते है विहग
    वसंत
    पतझड़
    और अंतराल
    जीवन का सबसे बड़ा सवाल

    सही कहा आपने, यही जीवन का सबसे बड़ा सवाल है।
    सुंदर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दो के बीच में अंतराल तो रहेगा ही,
    सुंदर पोस्ट...मेरे पोस्ट में स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर । अंतराल एक सच्चाई है पर यह चलायमान है । बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. वसंत से पतझड़ के बीच ही तो पूरा जीवन है ...
    अच्छी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  8. @अंतराल
    जीवन का सबसे बड़ा सवाल....

    वाकई!

    उत्तर देंहटाएं
  9. ढूंठ था जहां कभी
    वहां कलरव करते है विहग
    वसंत
    पतझड़
    और अंतराल
    जीवन का सबसे बड़ा सवाल....

    आपके पोस्ट पर आना अच्छा लगा ..आपने अंतराल कौर जीवन पर लिखा ...खूबसूरत व्याख्या ..मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या कथ्य,क्या भाव और क्या शिल्प...

    सब बेजोड़...

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवा भी तो इसी अंतराल के भटकाव में फंस के रह जाता है ... गहरी बात कही है आपने अरुण जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहद ख़ूबसूरत और शानदार रचना ! दिल को छू गई हर एक पंक्तियाँ!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. अन्तराल..
    दर्द और हंसी के बीच..

    जो जुड़ा था
    उसके टूटने से पहले,
    होता है एक अन्तराल।

    क्या बात है ...
    बहुत ही गहरी और सशक्त रचना ...
    बहुत दिनों बात इक अच्छी कविता पढने को मिली .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. ढूंठ था जहां कभी
    वहां कलरव करते है विहग
    वसंत
    पतझड़
    और अंतराल
    जीवन का सबसे बड़ा सवाल....वाकई बि‍ल्‍कुल सच कहा आपने। अंतराल छोड़ जाता है कई सवाल।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है आपकी..। पढ़ना बहुत अच्छा लगा.।
    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,। धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं