रविवार, 2 अक्तूबर 2011

शब्दों की चुहलबाजी (क्षणिकाऐं)



1
गांधी जी से लेकर
इबादत की टोपी तक,
सबकुछ बांट देगें।
राजनीति के चतुरसुजान,
खून को भी सेकुलर कह छांट देगें!



2
मेरी आदतों का वे बुरा मान गए हैं,
मंदिर, मस्जिद भी जाता हूं, वे जान गए हैं।

3
चोर चोर मौसेरे भाई।
भाजपा ने उक्ती को चरितार्थ किया,
मंहगाई पर वोटिंग में आम आदमी को छोड़,
संसद में कांग्रेस का साथ दिया।

4
बाबा जी कहते थे
सर्वशक्तिमान है हम,
कांग्रेस के एक ही फटके में,
न खुदा मिला, न विशाले सनम...।

5
हाइटेक युग में महोदय
कथित रथ की सवारी करेगें,
जनता को भ्रमाने का
फिर से एक स्वांग धरेगें।

5 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर और सार्थक पोस्ट के लिए बहुत- बहुत आभार बधाई .

    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर क्षणिकाएं ! भारत के वर्तमान राजनैतिक हालात पे बढ़िया कटाक्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाइटेक युग में महोदय
    कथित रथ की सवारी करेगें,
    जनता को भ्रमाने का
    फिर से एक स्वांग धरेगें।
    ...swang mein hi inka jeewan beetta hai..
    badiya vyang...

    उत्तर देंहटाएं