बुधवार, 15 दिसंबर 2010

प्रेम....काव्य-(कारण)


पूछा दोस्तों ने मुझसे
क्यों प्रेम किया तुमसे

मैने कहा पता नहीं

सभी ने पूछा
पर मां

वो समझती थी केवल
तुम्हारे घरवाले ने कहा
सारी बुराइयों है मुझमें

कारण सभी जानना चाहतें है
किसे पता है

प्रेम में कारण नहीं होता!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें