मंगलवार, 10 नवंबर 2015

अप्प दीपो भवः
























अप्प दीपो भवः
**
दीया हमें बताता है।
जलना हमें सिखाता।।
**
छाये जब घंधोर अँधेरा,
दीया नहीं घबराता है।।
**
पहले जलता एक दीया,
फिर असंख्य बन जाता।।
**
जलता है जब एक दीया,
तब अंधकार मिटाता है।।
**
दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें....

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा 12-11-2015 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2158 पर की जाएगी |
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर। दीप पर्व की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर। दीप पर्व की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं